अब PNB के साथ UK में 271 करोड़ का फ्रॉड, वसूली के लिए खटखटाना पड़ा कोर्ट का दरवाजा

पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) की यूके की सहायक कंपनी ने पांच भारतीयों, एक अमेरिकी और तीन कंपनियों पर केस किया है। बैंक का दावा है कि इन लोगों ने बैंक को गुमराह करते हुए करोड़ों रुपये का लोन लिया। इन लोगों की बैंक पर अब कुल देनदारी करीब 3.7 करोड़ अमेरिकी डॉलर यानी 271 करोड़ रुपये है।

अब इस कर्ज की वसूली के लिए बैंक को कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा है और कोर्ट में दलील दी है कि इन लोगों ने गलत दस्तावेज और बैलेंस शीट दिखाकर कुल 3.7 करोड़ अमेरिकी डॉलर यानी 271 करोड़ रुपए के लोन लिए।

यूके कोर्ट में दायर किए गए इस केस में बैंक का कहना है कि बैंक को झूठे और गलत दस्तावेज दिखाकर उनसे लोन लिया गया।

बैंक का कहना है कि इन लोगों ने साउथ कैरोलिना में तेल रिफाइनिंग यूनिट लगाने और पवन ऊर्जा प्रॉजेक्ट्स विकसित करने और उसे बेचने के लिए उनसे लोन लिया था। लोन के लिए उन्होंने अपना बैलेंस शीट बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया। वहीं प्रॉजेक्ट्स के बारे में गलत आंकड़े पेश किए।

पीएनबी ने कोर्ट में कहा कि उसने 2011 और 2014 के बीच इस रकम का भुगतान डॉलरों में अमेरिका में पंजीकृत चार कंपनियों को किया। जिसमें साउथ ईस्टर्न पेट्रोलियम एलएलसी, पेप्सो बीम यूएसए, त्रिशे विंड ऐंड त्रिशे रिसोर्स हैं।

एसईपीएल पर 17 मिलियन डॉलर का डिफॉल्ट किया है, जिसमें की 10 मिलियन पीएनबी का है। वहीं पेप्सो बीम इनवायरमेंटल सॉलूशन पर 13 मिलियन डॉलर का डिफॉल्ट किया है। कंपनी ने इन कंपनियों पर लोन भुगतान नहीं करने, फर्जी दस्तावेज देने जैसे कई मामलों में केस दर्ज किया है। बैंक ने कंपनी और व्यक्तिगत रूप से भी केस जर्ज करवाए हैं।

बैंक की ओर से चेन्नै में रहने वाले पेप्सो बीम के निदेशक ए. सुब्रह्ममण्यम और उनके भाई व ऐग्जिक्यूटिव डायरेक्टर अनंतराम शंकर के अलावा यूएस सब्सिडरी के सीईओ ल्यूक स्टेनगल पर भी केस किया गया है।